“मजदूर वर्ग क्या चाहता है?”

[यह लेख Angry Workers of the World (विश्व के गुस्साये मजदूर) द्वारा नियोजित एक चर्चा के लिए लिखा गया था जिसमें यूरोप और अमरीका और दूसरी तरफ भारत के वाम कार्यकर्ता किसान आंदोलन के विषय पर एकत्रित हुए।]